दो करोड़ पेड़ लगाने वाले पीपल बाबा [Living more harmoniously with nature in India]

1 Views
Neha Sharma
Neha Sharma
16 Feb 2022

भारत को अक्सर ही दुनिया की आध्यात्मिक राजधानी कहा जाता है. यहां नदियों को भगवान मानकर पूजा जाता है. पेड़ों और पत्थरों को पवित्र माना जाता है. ऐसे में पर्यावरण कार्यकर्ता आध्यात्मिक रुझान वाले समुदायों को धरती बचाने की दिशा में प्रेरित कर रहे हैं.
#DWHindi #EcoIndia
India is often called the spiritual capital of the world. At the heart of this is a focus on nature. Now activists are mobilizing spiritually inclined communities to channel their energies toward protecting the planet.

Show more

0 Comments Sort By

No comments found

Up next